जिसे हम सभ्यता कहते हैं, उसके लिए अंग्रेज़ी में शब्द है- सिविलाइज़ेशन. सिविलाइज़ेशन समझिए कि एक सामूहिक पटरी है. एक प्रक्रिया है, जिसके मार्फ़त कोई समाज बेहतरी की ओर बढ़ता है. करीब छह हज़ार साल पुरानी हमारी इंसानी सभ्यता ने यहां तक पहुंचने के रास्ते में कई महामारियां भोगी हैं.

इन्हीं महामारियों में से एक है- प्लेग
ये जरसिनिया पेस्टिस नाम के एक जीवाणु से होने वाला संक्रामक रोग है. यूं तो ये महामारी कई बार फैली दुनिया में. मगर पिछले दो हज़ार सालों में तीन मौके ऐसे आए, जब ये बहुत बड़े स्तर पर फैली. बिल्कुल कोरोना की ही तरह. एक देश से दूसरे देश. एक महादेश से दूसरे महादेश.

पहला चक्र
इसका पहला बड़ा चक्र आया छठी सदी में. तब इसकी शुरुआत मिस्र से हुई थी. ये मिस्र से लेकर तुर्की तक फैल गया.

दूसरी चक्र: ब्लैक डेथ
इसका दूसरा बड़ा चक्र आया 1331 में. इस दफ़ा इसकी शुरुआत हुई चीन में. फिर समंदर के जहाज़ों पर छुपकर बैठे चूहों के साथ ये ब्लूबॉनक प्लेग पहुंचा यूरोप. वहां लोग इसे ब्लैक डेथ बुलाने लगे. 1347 से 1351 के बीच यूरोप की कम-से-कम एक तिहाई आबादी ख़त्म हो गई प्लेग मे

हॉन्ग कॉन्ग के रास्ते भारत आया प्लेग, लाखों मरे
प्लेग का तीसरा बड़ा चक्र शुरू हुआ 1855 में. इस बार भी शुरूआत चीन से हुई. वहां से शुरू होकर ये दुनिया के कई हिस्सों में पहुंचा. 1896 में ये महामारी भारत भी आई. अकेले भारत में इस प्लेग से करीब सवा करोड़ जानें गईं. नेचर मैगज़ीन के मुताबिक, प्लेग के इन तीन महाचक्रों ने दुनिया में करीब 20 करोड़ लोगों की जान ली. रूस जैसे देशों में अब भी इक्का-दुक्का लोग मरते हैं इससे. मगर अब ये पहले जैसा घातक नहीं रहा.

दो रास्ते
ऐसी बीमारियां आमतौर पर या तो दवाओं के और वैक्सीन के सहारे ख़त्म होती हैं. जैसे स्मॉल पॉक्स ख़त्म हुआ. या फिर डर से उकताने के बाद लोग बीमारी के साथ जीना सीख लेते हैं. इस स्थिति में बीमारी और उसका खतरा हमारे बीच बना रहता है. मगर फिर भी हम सामान्य होने लगते हैं. कुछ ऐसा ही कोरोना के साथ भी हो रहा है. ज़्यादातर देश या तो लॉकडाउन ख़त्म कर चुके हैं. या इसे ख़त्म करने की तैयारी में है. मगर क्या लॉकडाउन ख़त्म होने का मतलब ये समझें कि कोरोना का ख़तरा टल गया?

दक्षिण कोरिया: वाहवाही
इस सवाल का जवाब खोजने के लिए हम पहली मिसाल उठाते हैं दक्षिण कोरिया की. कोरोना से निपटने की उसकी रणनीति ने हर जगह तारीफ़ पाई. लॉकडाउन लगाने की जगह जमकर जांच करना. संक्रमित लोगों को क्वारंटीन में रखना. उनके संपर्क में आए लोगों की सोशल ट्रेसिंग करना. इन तरीकों से दक्षिण कोरिया ने अपने यहां कोरोना पर काबू पा लिया.

लगातार कम होता जा रहा था संक्रमण
संक्रमण के नए मामले लगातार कम होते जा रहे थे. मसलन, 5 अप्रैल से पहले रोज़ सामने आ रहे नए मामलों की संख्या 80-90 के पाले में थी. फिर 6 अप्रैल से ये संख्या कम होकर 40-50 के पाले में पहुंच गई. 10 अप्रैल से घटकर 20-30 के पाले में आ गई. 18 अप्रैल से ये संख्याएं और कम होकर 20 से भी नीचे सरकने लगीं. 21 अप्रैल आते-आते कमोबेश इकाई में पहुंच गई ये संख्या. 1 मई को नौ नए केस. दो मई को छह नए केस. 3 मई को 13 नए केस. 4 मई को आठ नए केस. 5 मई को 3 नए केस. ऐसा लगा, अब जीवन सामान्य हो चला है. 6 मई को साउथ कोरिया ने सोशल डिस्टेन्सिंग के नियमों में भी ढील दे दी. मास्क लगाना अनिवार्य बनाए रखा. एक-दूसरे से हल्की दूरी भी बरतने को कहा. मगर अब 10-12 दोस्तों का ग्रुप कॉफी पीने साथ जमा हो सकता था. सब खुश थे.

मगर फिर एक चूक हो गई…
ये शुरुआती मई की बात है. लंबा वीकेंड पड़ा था. वहां लूनर कलैंडर के चौथे महीने का आठवां दिन होता है महात्मा बुद्ध का जन्मदिन. माने, राष्ट्रीय अवकाश का दिन. इस साल ये छुट्टी पड़ी 30 अप्रैल को. अगला दिन, यानी 1 मई था श्रमिक दिवस. फिर 2 और 3 मई को शनिवार-इतवार की छुट्टी. फुल छुट्टी का माहौल. 2 मई की बात है. एक 29 साल का युवा अपने दोस्तों के साथ नाइटक्लब पहुंचा. उसको था कोरोना. ये बात न उसे मालूम थी, न उसके दोस्तों को. उस नाइटक्लब में मौजूद लोगों से होते हुए ये संक्रमण पास के और भी कई नाइटक्लब्स में पहुंचा.

बार और नाइटक्लब फिर बंद कर दिए गए हैं
इस चूक का असर दिखना शुरू हुआ 8 मई. इस दिन कोरोना के 18 नए मामले मिले. अगले रोज़ ये संख्या 34 पहुंच गई. उस एक लड़के के कारण अब तक 86 नए केस सामने आ चुके हैं. प्रशासन का मानना है कि उस लड़के के कारण करीब 1,500 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की आशंका है. इस मामले के बाद दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल में सारे क्लब और बार बंद कर दिए गए हैं. उस इलाके में मौजूद सभी लोगों से टेस्ट कराने को कहा गया है. स्कूलों को वापस खोलने का फैसला एक हफ़्ते और टाल दिया गया है. सोशल डिस्टेन्सिंग में ढील दी जाए कि नहीं. किस तरह से और कितनी ढील दी जाए, इसपर फिर से विचार किया जा रहा है वहां.

चीन में क्या हो रहा है?
दूसरी मिसाल चीन से है. 9 मई को वुहान शहर में एक कोरोना संक्रमित मरीज़ की पुष्टि हुई. 3 अप्रैल के बाद ये पहली बार था, जब वुहान में कोरोना का नया केस मिला. 11 मई को पांच और नए मामले मिले कोरोना के. इन पांचों के अंदर कोरोना का कोई लक्षण नहीं था. न ही बाहर से आए किसी इंसान से ही इनका कोई संपर्क हुआ. मतलब, ये विदेश से आए लोगों के कारण संक्रमित नहीं हुए हैं. नए संक्रमणों को देखते हुए वुहान प्रशासन ने अगले 10 दिनों के भीतर यहां करीब एक करोड़ 10 लाख लोगों की कोरोना जांच करने का फैसला किया है. इसके अलावा जिस इलाके में ये नए संक्रमण मिले हैं, उसके मुख्य अधिकारी जांग युक्सिन को बर्ख़ास्त भी कर दिया गया है. उनके ऊपर महामारी फैलने से रोकने में नाकामयाब रहने का आरोप है.

वुहान अकेला शहर नहीं है, जहां बीते दिनों में संक्रमण के मामले तेज़ हुए हों. 10 मई को जिलिन प्रांत स्थित शुलान शहर ने भी हाई रिस्क का ऐलान किया था. वहां एक ही इलाके में 15 से ज़्यादा नए केस मिले कोरोना के. इससे पहले 23 अप्रैल को भी उत्तरी चीन से ऐसी ही ख़बर आई थी. वहां कोरोना के कई नए मामले सामने आने के बाद लोगों की आवाजाही पर कई प्रतिबंध लगा दिए गए थे.

WHO क्या कह रहा है?
वुहान, साउथ कोरिया, घाना और जर्मनी. ये चारों देश मिलाकर तीन महादेशों की तस्वीर मिल गई हमें. एशिया, यूरोप और अफ्रीका. ये चारों ऐसी मिसालें हैं, जिन्होंने कोरोना के आगे प्रभावी रणनीति दिखाई. कोरोना पर काफी हद तक काबू पा लिया. अब यहां फिर से कोरोना में तेज़ी आ गई है. जानकारों का कहना है कि ये ख़तरा बाकी देशों के आगे भी है. इन जोखिमों को देखते हुए WHO ने अपील की है कि सभी देश छोटे-छोटे कदम बढ़ाएं. आर्थिक नुकसान के बावजूद लॉकडाउन ख़त्म करने में बहुत जल्दबाजी न दिखाएं. महामारी विशेषज्ञों का कहना है कि लॉकडाउन से बाहर निकलते हुए कुछ चीजें ध्यान में रखनी ज़रूरी हैं. क्या हैं ये चीजें?

  1. संक्रमण की रफ़्तार को काबू में लाना.
  2. अपने स्वास्थ्य तंत्र को इस स्थिति में पहुंचाना कि इलाज की ज़रूरत वाले मरीज़ों को इलाज मिल सके.
  3. तेज़ी से कोरोना जांच करना. संक्रमित लोगों के संपर्क में आए लोगों की पहचान करके उन्हें क्वारंटीन में रखना.

अगर संक्रमण पर काबू पाए बिना ही लॉकडाउन खोल दिया गया, तो इन्फेक्शन में तेज़ी आएगी. उस स्थिति में शायद हमारा हेल्थ केयर ढांचा उतने मरीज़ों का बोझ न उठा सके. ऐसे में कई लोगों को ज़रूरी इलाज नहीं मिल पाएगा. और चीजें हाथ से बाहर चली जाएंगी.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें