अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों एवं अन्य तकनीकी संस्थाओं से कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान अपने शिक्षकों एवं कर्मचारियों को समय पर वेतन देने का निर्देश दिया है। एआईसीटीई का यह निर्देश ऐसे समय में सामने आया है जब उसे ऐसी शिकायतें मिली थी कि कुछ संस्थानों ने फरवरी एवं मार्च महीने के वेतन का भुगतान नहीं किया है । 
    
एआईसीटी ई के अध्यक्ष अनिल सहस्त्रबुद्धे ने सभी मान्यता प्राप्त कालेजों को अपने पत्र में कहा, ” हमें इस तरह की शिकायतें मिली है कि कुछ संस्थानों ने अपने शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक कर्मचारियों को मार्च महीने का वेतन नहीं दिया है और कुछ मामलों में फरवरी माह का वेतन भी नहीं दिया है ।  

उन्होंने कहा कि कृपया इस बात को समझें कि यह राष्ट्रीय आपात स्थिति है जब कोविड-19 के कारण पूरे देश में लॉकडाउन है । ऐसे में कर्मचारियों को वेतन नहीं देने से इनके परिवारों के समक्ष बड़ी समस्या खड़ी हो जायेगी और भूख से जुड़े संकट का भी सामना करना पड़ेगा । 
    
सहस्त्रबुद्धे ने कहा, ” इसलिये आपसे आग्रह किया जाता है कि शिक्षकों एवं कर्मचारियों का वेतन समय पर दें । 
   
गौरतलब है कि कोविड-19 के मद्देनजर देश के शैक्षणिक संस्थान 16 मार्च से बंद हैं। देश में 24 मार्च को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई थी और इसे बढ़ाकर 17 मई कर दिया गया है। 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें